देवउठनी एकादशी

देव प्रबोधिनी एकादशी जिसे प्रबोधनी एकादशी भी कहा जाता हैं, के इस शुभ-पावन अवसर पर, आप सभी को ह्रदय से बधाई.. इसे पापमुक्त करने वाली एकादशी माना जाता हैं | सभी एकादशी पापो से मुक्त होने हेतु की जाती हैं | लेकिन इस एकादशी का महत्व बहुत अधिक माना जाता हैं | राजसूय यज्ञ करने से जो पुण्य की प्राप्ति होती हैं उससे कई अधिक पुण्य देवउठनी प्रबोधनी एकादशी का होता हैं |
इस दिन से चार माह पूर्व देव शयनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु एवम अन्य देवता क्षीरसागर में जाकर सो जाते हैं | इसी कारण इन दिनों बस पूजा पाठ तप एवम दान के कार्य होते हैं | इन चार महीनो ने कोई बड़े काम जैसे शादी, मुंडन संस्कार, नाम करण संस्कार आदि नहीं किये जाते हैं | यह सभी कार्य देव उठनी प्रबोधनी एकादशी से शुरू होते हैं |
इस दिन तुलसी विवाह का भी महत्व निकलता हैं | इस दिन तुलसी विवाह का आयोजन किया जाता हैं | इस प्रकार पुरे देश में शादी विवाह के उत्सव शुरू हो जाते हैं | मैं आशा करता हूँ कि यह‘देव-दिवाली’ सभी के लिए एक नयी सौगात लाएगी।

“???????”
“???????”
? हर घर मे “तुलसी” ?
? “तुलसी” बड़ी महान है ?
?जिस घर मे तुलसी रहती?
? वो घर स्वगॅ समान है ?
? देव उठनी एवँ तुलसी ?
? विवाह कि हादिॅक ?
? शुभकामनाएं ?
?. ??
???????

:)IMG_20151122_200230951L

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *